sher's image
मेरी बज़म में भीड़ का क्या काम ए दोस्त
मेरा ज़माने से क्या राब्ता 
इक तू है तो महफिल जमा लेंगे हम 
हम तो आदिल दिलों के बस मुरीद हैं।
                                      
                                         पूर्णिमा

बज़म - सभा
राब्ता - संबंध
आदिल - नेक
मुरीद - अनुयायी, follower

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts