दगाबाज़ जिंदगी's image
Share0 Bookmarks 9 Reads0 Likes

मुट्ठी से रेत बन फिसली तो क्या हुआ,


हम कहते ना थे जिंदगी दग़ाबाज़ है।


~ प्रियंका सिंह

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts