पहली शायरी's image
Share0 Bookmarks 19 Reads1 Likes
वो इतना खूबसूरत गर न होता,
मैं तब फिर चांद की तारीफ करता!

मैं उससे अपनी नजरें तो हटा लूं,
वो जैसा है नज़ारा हूबहू तो हो कहीं का!

 पल्लवी

#कविशाला


No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts