कुर्सी बस हिलानी है!'s image
Why do I writePoetry1 min read

कुर्सी बस हिलानी है!

priyamishrapriyamishra November 11, 2021
Share0 Bookmarks 105 Reads1 Likes

लिख लेने दो

सजा लेने दो पत्रिकाओं को

माहौल है चुनाव का 

गिना लेने दो वादों को

फिर पूछ पांच साल कहां होगी! 

तुम देखना क्या-क्या तरकीब नई होगी

कई चौकीदार नज़र आए हैं

सोचो तिजोरी कहाँ खुली होगी? 

लगा रहें हैं जोर

लगा लेने दो

मंदिरों की घंटियाँ भी ठनका लेने दो

ये आइना जरा साफ रखना

चौखट पर लटकानी है

कुंडी मार दरवाजे पर 

जरा बात इन्हें समझानी है

कुर्सी बस हिलानी है 
हाँ
कुर्सी बस हिलानी है!

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts