जिसे मैंने जान माना's image
Poetry1 min read

जिसे मैंने जान माना

Priyam DubeyPriyam Dubey June 23, 2022
Share0 Bookmarks 53 Reads1 Likes
जिसे मैंने जान माना वो हरजाई निकले
मोहब्बत से मेरे करके बेवफ़ाई निकले

वो बातें सारी झूठी कसमें सभी फ़र्ज़ी थे
मेरी मता-ए-जाॅं के सारे वादे हवाई निकले

जन्नत सी जिंदगी को जहन्नुम सा जला दिया
मुड़कर देखा भी नहीं जब करके जुदाई निकले

सर्द रातों के सितम सह लेंगे अकेले ही
क्यों उसकी खुशबू वाली वो रजाइ निकले

चारासाज़ों की मुझको कोई ज़रूरत नहीं है
दिल चाहता ही नहीं इस दर्द की दवाई निकले

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts