छह-सात माह का बालक's image
Poetry1 min read

छह-सात माह का बालक

Priya KusumPriya Kusum November 23, 2021
Share0 Bookmarks 5 Reads0 Likes


जब आप किसी छह-सात माह के नन्हें बालक को घर लाते है

उसका जी बहलाने को कितने जतन करते है

जाने क्या-क्या उपाय आजमाते है

उसके लिये खिलौने लाते है, तालियां बजाते हैं

अजीबो- गरीब मुंह बनाकर उसको हंसाते है

उसके जैसे हुंकार भरते है, उसके बदन को गुदगुदाते है

फिर भी रोने लगे अगर वो

तो उसे गोद में उठाते है, हवा में झुलाते है

उसके लिए अलग-अलग लोरियां गाते है

उसकी एक मुस्कुराहट देखने को

आप कितना ज़ोर लगाते है

मानो कोई करिश्मा हुआ हो

हर आने-जाने वाले को ऐसे उसकी हंसी दिखाते है


जब दुनिया मुझे प्रेम देना बंद कर देती है

और मैं अकेला हो जाता हूँ

तो छह-सात माह का ऐसा ही बालक बन जाना चाहता हूं। 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts