बादल ही ना देखती तुम रहो,प्यार का ये मौसम बदल जाएगा l's image
Love PoetryPoetry1 min read

बादल ही ना देखती तुम रहो,प्यार का ये मौसम बदल जाएगा l

प्रवीण मुन्तजिरप्रवीण मुन्तजिर August 30, 2021
Share0 Bookmarks 27 Reads0 Likes

बादल ही ना देखती तुम रहो,

प्यार का ये मौसम बदल जाएगा l


दर्पण ही ना निहारती तुम रहो,

मिलन का मुहूर्त निकल जाएगा ।


प्रीत की डोर ऐसे न खिचती तुम रहो,

प्रेम का ये धागा,यू टूट जाएगा।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts