मुसाफिर का धर्म ।'s image
Poetry1 min read

मुसाफिर का धर्म ।

Pratima PandeyPratima Pandey November 9, 2021
Share0 Bookmarks 11 Reads0 Likes


 सफर में मोड़ जो आए तो मंजिल बदल लेना गलत है ,


राह सीधी हो या टेढ़ी चलते रहना मुसाफिर का धर्म है।


-प्रतिमा पांडेय

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts