वक्त's image
Share0 Bookmarks 41 Reads1 Likes

हमीं से सीखकर हमीं को समझाने लगे हैं,

वक्त के तो साहब यहाँ जलवे बड़े हैं..

कल जिन्हें ढंग से चलने का सलीका न था,

आज वही सबको यूँ ही गिराने में लगे हैं..

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts