तुम्हीं मेरे रूबरू आ जाओ's image
Poetry1 min read

तुम्हीं मेरे रूबरू आ जाओ

Pragya ShuklaPragya Shukla December 12, 2022
Share0 Bookmarks 35 Reads2 Likes

तुम तक पहुंचने में बहुत सी मुश्किलें अब आ रही है

तकल्लुफ करके ज़रा तुम्हीं मेरे रूबरू आ जाओ


No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts