गुलाबी धूप's image
Share0 Bookmarks 20 Reads1 Likes

गुलाबी धूप सा खिल जाओ सूकूँ अहद-ए-वफ़ा सा मिल जाये, 

मगर हो बेजान पतझड़ से वफ़ा भी क्या समझ आये। 



No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts