"किसी के प्यार में जीने ओ मरने का चलन सीखें....."'s image
Love PoetryPoetry1 min read

"किसी के प्यार में जीने ओ मरने का चलन सीखें....."

Pradeep Seth सलिलPradeep Seth सलिल February 11, 2022
Share0 Bookmarks 184 Reads0 Likes

'सुबह ओ शाम हर लम्हा मोहब्बत का चलन सीखें'


सुबह ओ शाम हर लम्हा मोहब्बत का चलन सीखें

किसी के प्यार में मरने ओ जीने का चलन सीखें,

नगर में पुरसुकूं आलम बरक्कत भाईचारा हो

किताबों से इतर इंसान बनने का चलन सीखें।


--प्रदीप सेठ सलिल


No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts