दे दूं's image
Share0 Bookmarks 57 Reads1 Likes

क्या दूं मैं तुझे आज ओ मेरे रहबर,

आ पास जी भर के मोहब्बत दे दूं


यूं करते हैं हम शुक्र तोहफों से अदा,

तुझमें खोकर के जन्मों की तिजारत दे दूं


ये माना देने के अब हम नहीं काबिल,

मुझमें धड़के तू वादा ए मुसलसल दे दूं


भरा तुझमें कितना दर्द ओ गुबार बता,

बरस ले मुझ पर तुझे अनगिनत बादल दे दूं

 

क्यूं रूआसी सी लगती हैं ये आंखें तेरी,

आ नजरें मिला शोख का काजल दे दूं


क्यूं जुदा है गालों की वो लाली तुझसे,

रंगे रूखसार को जी भर के सुरखियत दे दूं

 

इक टुकड़े से ही तो बने हैं ये दिल अपने,

आ झांक मुझमें आइना ए शक्ल दे दूं

 

बेकार ही होता है तू खफा खुद से,

अपनी वहशत से आ सूकुन ए महफ़िल दे दूं


सफर जो ना कटे मेरे दिलबर तुझसे,

चल थाम बांह रसता ए मंज़िल दे दूं


एक कतरा सही हमन अंजूमन में तेरी,

लग जा गले तारों की पैराहन दे दूं


क्यूं ढूंढे है दर बदर ‌तू आशियां तेरा, 

पलकों में छुपा, नैनो का महल दे दूं


तेरी तकलीफ मुझे चुभती है कांटों की तरह,

आ पास मेरे हाथों का मखमल दे दूं ;)


क्या दूं तुझे ये सोच कर परेशान हूं मैं,

मेरे प्यार को एक प्यारी सी ग़ज़ल दे दूं

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts