और भी है's image
Share0 Bookmarks 238 Reads1 Likes
जिंदगी और भी है, रास्ते और भी है,
हसरतें और भी है, राहतें और भी है

बस मैं नहीं गमगीन इस बेदर्द जहां में,
मुझ से अफसूर्दा परेशान और भी है।

जमाने पर बना ले छाप तू चाहे बड़प्पन की,
तेरे चेहरे पे छिपे खूंखार निशान और भी है।

एक तेरी जुबान ही कभी हम बोल पाते थे,
जुदा हुए तो ये जाना, हर्फ ए जुबान और भी है।

बहकते थे कभी हम तेरी उन नजरों के जादू से,
भटकने को मेरे हमदम मेहखाने और भी है

ये समझा था मुक्कदर में मेरा ही यार रहेगा,
अमूमन देर से जाना उनका ठिकाना और भी है।

आंखों में बसा दर्द है, होंठों पर हसी भी,
लगता है मुझमें तेरा कुछ पुराना और भी है।

मन से चाहते थे तुझे पाना ओ दिलनशीन,
न था पता तेरा दिल लगाना कहीं और भी है।

तुझे खोकर ये समझे की बर्बाद हुए हम,
हैरान हूं ये देख तूफान अभी आना और भी है।

मुश्किल है मेरा तेरी चौखट पे आ जाना,
तू रहीस सही पर मेरा मकान और भी है।

*अफसूर्दा=उदास

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts