हवाईजहाजों से फिसलती ज़िन्दगियाँ।'s image
Poetry1 min read

हवाईजहाजों से फिसलती ज़िन्दगियाँ।

Pooja VashisthPooja Vashisth August 26, 2021
Share0 Bookmarks 50 Reads1 Likes

कर रही है हकीकत हर तस्वीर बयाँ,

कर हवाले कमबख्तों के देश वो गया।

कोई न सुन सका, जो कहना चाहती थी

हवाईजहाजों से फिसलती ज़िन्दगियाँ।।

------ पूजा वशिष्ठ


No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts