हाँ जी मैं महिला हूँ's image
Poetry1 min read

हाँ जी मैं महिला हूँ

pinki jhapinki jha March 11, 2022
Share0 Bookmarks 151 Reads1 Likes
हाँ जी मैं महिला हूँ ,
माँ और ममता हूँ ,
दुलार और डांट हूँ ,
वरदान और दान हूँ ,
जी हाँ कह सकते हो महान हूँ ,
अपनी माँ की फूल सी जान हूँ ,
घर बदलती हर जगह ही मेहमान हूँ ,
सहूलियत जितनी आज़ाद हूँ ,
अपनी इच्छा जलाती समशान हूँ ,
रोज़ बस आम सी कुछ एक दिन बस 
मानी जाती महान हूँ ,
हैं कठिनाइयाँ बहुत सी राह मैं ,
कुछ लोग है ,
तो कही सोच है ,
तो कही खुदको समझती हम ही बोझ है ,
फिर भी सपने अपने देख रही हूँ ,
रोज़ थोड़ा-थोड़ा चलके आगे बढ़ रही हूँ,
अपने आपको सबसे पहले रखना पढ़ और कर रही हूँ ,
क्या कितना होगा या नहीं क्या जानती हूँ ,
कुछ किया ही नहीं ये झूठ है इलज़ाम इतना जानती हूँ |

- पिंकी झा 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts