बस इश्क़ होना जरुरी है's image
Love PoetryPoetry1 min read

बस इश्क़ होना जरुरी है

pinki jhapinki jha June 30, 2022
Share0 Bookmarks 82 Reads1 Likes

इश्क़ होना जरुरी है,

जैसा सबको है वैसा ही हो,

ये जरुरी नहीं |


कोई विधि नहीं है कि,

जैसा लिख दिया वैसा ही हो,

कोई दायरा नहीं है ,

चुनने की आज़ादी है,

हो कोई भी कैसा भी मंजूरी तुम्हारी है |


गलत कहे जमाना फिर भी है वो सही लगे,

रोक क्यों लोगे खुदको,

वही चुनो जो दिल कहे |


हो इश्क़ कैसा भी,

पवित्र है ये जान लो,

स्त्री-पुरुष पुरुष-पुरुष स्त्री-स्त्री का हो,

समान है , अनमोल है ,

बात गाँठ बांध लो |


बस मन जब कुछ कहे ,

सौ बार पुछलो उससे,

टटोलकर तसली करलो ,

लाख सवाल उठे या दोष लगे ,

पीछे तो नहीं हटोगे ,

जो चुना है तुमने,

उसके साथ डटे खड़े रहोगे |


बाकि तो बस इश्क़ होना जरुरी है |

- पिंकी झा


No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts