साहस's image
Share0 Bookmarks 101 Reads1 Likes


साहस


उजड़ गए सब खेत खलियान,

बड़ा तूफ़ान आ कर गुज़र गया ।

फिर जुट गयी प्रकृति अपने काम में,

अंकुर नया कोई फूट गया ।

उठ जा ! ले सबक़ इस धरती से,

साहस तेरा क्यूँ छूट गया ?

इंसान हैं तू काँच नहीं,

की एक बार टूटा और बिखर गया ।



-Palak Agrawal [Writeupsfromtheheart]





No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts