तन्हाई's image
Share0 Bookmarks 39 Reads0 Likes

जुदाई के तराने गाये जा रहे है देखो मंज़र-ए-शब में

और आ गई हैं रुत बिछड़न की हमें फिर से तन्हा करने


~मिलिंद

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts