जन गण मन अधिनायक भारत's image
Independence DayPoetry1 min read

जन गण मन अधिनायक भारत

Nitin Kr HaritNitin Kr Harit August 13, 2022
Share0 Bookmarks 69 Reads0 Likes

जन-जन मन में जीवन भरता, जीवन में अभिलाषा,

भारत है आधार हृदय का, भारत जी की भाषा।

शीश सजा, गिरिराज हिमालय, पांव पखारे सागर,

हिंदू मुस्लिम सिख ईसाई, फूल तेरी धरती पर।

वक्ष बहे कल कल ध्वनि करती चंचल यमुना गंगा,

साहस, सच्चाई, संपन्नता, लेकर बहे तिरंगा।

सदा रहे लहराता परचम, कभी ना मन में भय हो,

जन गण मन अधिनायक भारत, तेरी सदा ही जय हो।

जय हो, जय हो, जय हो, जय जय जय, जय हो !!


~ नितिन कुमार हरित

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts