दुःख's image
Share0 Bookmarks 27 Reads0 Likes

शरीर के दुःख से, दुखी होगा केवल शरीर,

बस यही सोचकर मैं उठा, और फिर चल दिया।


- नितिन कुमार हरित

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts