मै नही देख सकता's image
Poetry1 min read

मै नही देख सकता

niteshkumarsingh2406niteshkumarsingh2406 April 10, 2022
Share0 Bookmarks 22 Reads0 Likes

मै नही देख सकता

माँ के आँचल से बिखर कर

नन्ही किलकारियों को मरते नही देख सकता,

उस अत्यंत प्रेम की मुर्ति को ,

बिखरते नही देख सकता ।


धर्म जाती पर बांटा जिसने

उन्हे कामियाब होते नही देख सकता,

द्वेष की आग में बच्चों को

जलते नही देख सकता।


युद्ध बीमारी की आँधी में

नन्हे हाथों के भविष्य़ को उजड़ते नही देख सकता

नन्ही जान को,

दफन मे दफनाते नही देख सकता।


विश्व को उन नन्ही जान के प्रति

असंवेदनशील नहीं देख सकता,

इंसानियत को इस धरती पर

मरते नही देख सकता।


नितेश

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts