प्यार :एक इतिहास's image
Love PoetryPoetry1 min read

प्यार :एक इतिहास

nishantparkharnishantparkhar October 10, 2022
Share1 Bookmarks 53 Reads2 Likes

जिंदगी में गुजरे कुछ लम्हें,

 इस प्रकार याद दिलाती है हमें।

 हमें अपनों से दूर ले जाती है ।

मेरी गलतियां मुझे खुद को तड़पाती है।


जिंदगी में कुछ हुआ तो नहीं ,

हम कुछ किए तो नहीं ।

तेरे नामों का सपना देखे तो सही,

 जिंदगी में कुछ हुआ तो नहीं।


हम तो हुए बदनाम,

 तेरे नामों से हुआ पूरा नाम ।

कुछ कर तो सके नहीं ,

अब कुछ करने का इच्छा हो रहा नहीं।


 हम अपने कर्मों से हुए गुनाह,

 गुनाहों में हुए दो गुणा ।

हम किये वह गुनाहों को परेशान,

 खुद के बीते लम्हें में हुए परेशान।


 परेशानियां तो बहुत देखा हमने ,

पर इसकी भी एक नई बातें है ।

कोई मिला तो नहीं ,

इसका भी एक नया बात है।


          -निशांत प्रखर

           बिहार

           

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts