मैं शहर हूँ...'s image
1 min read

मैं शहर हूँ...

Nishant JainNishant Jain June 16, 2020
Share0 Bookmarks 91 Reads0 Likes

मुस्कानों का बोझा ढोए,

धुन में अपनी खोए-खोए

ढूँढता कुछ पहर हूँ।

मैं शहर हूँ।


बेमुरव्वत भीड़ में,

परछाइयों की निगहबानी,

भागता-सा हाँफता-सा

शाम कब हूँ, कब सहर हूँ,

मैं शहर हूँ।


सपनों के बाजारों में क्या,

खूब सजीं कृत्रिम मुस्कानें,

आँखों में आँखें, बातों में बातें,

खट्टी-मीठी तानें,

नजदीकी में एक फासला,

मन-मन में ही घुला जहर हूँ।

मैं शहर हूँ।


मन के नाजुक से मौसम में,

भारी-भरकम बोझ उठाए,

कागज की क़श्त से शायद,

हुआ है अरसा साथ निभाए,

खुद के अहसासों पर तारी,

हूँ सुकूँ या फिर कहर हूँ।

मैं शहर हूँ।ी

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts