poem's image
इकहरा 
माँ 
      माँ की गोद ..बेफिक्र मंदिर 
     पत्नी की गोद उम्र ..भर की साझेदारी 
     प्रेमिका की गोद ..फ़िक्र की गोली 
      बहन का प्रेम ..समझदारी का हाथ 
     भाई का साथ ..खुद्दारी का  नशा 
     दोस्त की दोस्ती ..राहों का बसंत 
     बाप का प्यार ..अपना है परिवार 

     दुनिया है खुशगवार 
    सूरज चाँद नाइ 
     यही तो है जिंदगी 
    जिंदगी है भाई 
     समझदारी की बात 
      सभी को लगे उम्र भाई 

        कवि फोरम 
         रचना  
              निरंजन गौतम दत्त

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts