ishk's image
उम्मीद 

 तुमने जो 
  हाथ झटका 
   दिल में खटका 
   मन भी अटका 

    मौसम की फटक 
   दिल की चटक 
 मन ना मने 

       सुभह है सांवली सलोनी 
      अब ना खुशगवार है 
         शामे ठिकाने थे मधुशाला में 
        अब चिराग गुल है मयखाने में 

     छलके ना जामे नशा 
    अब आँखों से 
   विरह की बुँदे 
     दे दस्तक आँखों में 

     आरजू तेरी दफ़न 
        अब क्या करे मयखाने में 

        मिन्नतें मेरी ना अभी खत्म 
      आस हुश्ने दीदार को 


      सच है मानो या मानो 
       उम्मीदी है दुनिया दत्त 
    छिपकर बार बार 
   सूरज चाँद 
     उगते है आसमां में  

   कवि फोरम 
रचना 
         निरंजन गौतम दत्त

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts