स्री के गुण's image
Poetry1 min read

स्री के गुण

Nikita SuviNikita Suvi October 18, 2022
Share0 Bookmarks 10 Reads0 Likes

समर्पण, त्याग, सेवा, प्रेम, ममता, करुणा- स्री के इन सब गुणों से बढ़कर उसका गुण है - क्षमा। वह क्षमा कर के फिर से स्वीकार कर लेती है , हर बार। 

~ निकिता सुवि 


No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts