चुपके से's image
Share0 Bookmarks 9 Reads0 Likes

चुपके से जो रात को , आँखों से गिरा था तकिये पर,

वो अधूरी मोहोब्बत का नहीं , टूटी उम्मीदों का दर्द था। 

~ निकिता सुवि 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts