प्रिये...'s image
Share0 Bookmarks 0 Reads1 Likes
मन तृप्ति पर नहीं जा रहा 
तुम नजदीक थोड़ा आओ प्रिये
नजरों को अपना स्पर्श दो 
हृदय से बतलाओ प्रिये 
आत्मा दुर्बल हो रही 
तुम आकर समझाओ प्रिये
इत्र की फिर महक बन
रग रग में रम जाओ प्रिये |
.
मेरे हर्ष की शुरुआत बन 
पीड़ा पर एक बरसात बन 
रिहा कर दुख की कैद से 
एक पंछी सी मुलाकात बन 
तुम अपने उत्तम आचरण से 
मुझसे फुसलाओ प्रिये 
वक्त बन जाओ प्रिये 
हर वक्त बन जाओ प्रिये 
नजरों को अपना स्पर्श दो 
हृदय से बतलाओ प्रिये |
.
भांप कर मेरे आज को 
एक घुट रही आवाज को 
अंदाज बन हमराज का 
निपुण कर परवाज को 
दवा परवाह की लगा कर 
मुझको बहलाओ प्रिये 
हर दर्द सहलाओ प्रिये 
हमदर्द बन जाओ प्रिये 
नजरों को अपना स्पर्श दो 
हृदय से बतलाओ प्रिये |
.
अपनत्व हो एकांत में 
शब्द हो जब शांत मैं
अपनी पहचान बनाओ तुम 
मेरे प्रेम पूर्ण वृत्तांत में 
समीप हो जाओ प्रिये 
इश्क दर्शाओ प्रिये 
हालात को बदलो प्रिये 
हालात बन जाओ प्रिये
नजरों को अपना स्पर्श दो 
हृदय से बतलाओ प्रिये ||
..

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts