तब्सिरा करिएगा गैरो के ऐब ओ हुनर पे's image
Poetry1 min read

तब्सिरा करिएगा गैरो के ऐब ओ हुनर पे

NawabzadaNawabzada December 8, 2021
Share0 Bookmarks 85 Reads0 Likes



तब्सिरा करिएगा गैरो के ऐब ओ हुनर पे...


चाहते है इज्ज़त ओ मुक़ाम ए बलंदी तो

सर को खालिक़ के आगे झुका लीजिए,


गर है ख्वाहिश पाने की इल्म ओ हुनर

उस्तादों से बा अदब ही मिला कीजिए,


ज़िन्दगी के तजरुबे की हो दरकार जो

कुछ वक़्त बुजुर्गो के साथ बीता लीजिए,

तब्सिरा करिएगा गैरो के ऐब ओ हुनर पे

पहले ख़ुद को तो आईना दिखा लीजिए,



जानते है कि गीबत है गुनाह ए अज़ीम

क्यों ना करने से पहले तज़्किरा कीजिए,



देख कर माल ओ ज़र या हुस्न ओ ज़माल

आहे भरने से पहले शुक्र ए ख़ुदा कीजिए,



गर हो गई कोई खता ज़िन्दगी में तो

फिर पहले मगफिरत की दुआ कीजिए..!!


::नवाबज़ादा












No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts