मुफ़लिसी और ऐब छुपाए कौन ?'s image
Poetry1 min read

मुफ़लिसी और ऐब छुपाए कौन ?

NawabzadaNawabzada December 3, 2021
Share0 Bookmarks 19 Reads0 Likes

ज़र ओ हुनर के ही सब दीवाने

मुफ़लिसी और ऐब छुपाए कौन ?


कहने को तो सब मेरे अपने है

अपना बन के यहाँ दिखाए कौन ?


मसलहतन दुनियाँ के रिश्ते नाते

मतलब की मुहब्बत निभाए कौन ?


ज़रूरते पूरी होते ही छोड़ जाते है

खुदगर्जो से कैसे बचे, बचाए कौन ?


हमारे गम के फ़साने और भी है

यहाँ कौन सुने और सुनाए कौन..!!

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts