मौसम झूठे वादों का's image
Poetry1 min read

मौसम झूठे वादों का

NawabzadaNawabzada December 3, 2021
Share0 Bookmarks 22 Reads0 Likes

आया मौसम झूठे वादों का

फिर वो ख़्वाब नए बोने आएँगे,


हर किसी से फ़रियाद करेंगे

तरक्क़ी का सपना दिखाएँगे,


बर्बाद कर रहे देश को ज़ाहिल

आपको भी हिस्सेदार बनाएँगे,


अबतक जो कुछ कर ना सके

वो फिर से हवा महल बनाएँगे..!!


Nawabzada

Writing hand

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts