वो सिर्फ एक औरत नहीं थी's image
Poetry1 min read

वो सिर्फ एक औरत नहीं थी

Nand Kishore kashmiraNand Kishore kashmira March 26, 2022
Share0 Bookmarks 136 Reads0 Likes

अखबार के कोने में एक खबर

एक औरत की हत्या गला रेत कर

पढ़ी सबने सरसरी तौर पर, फिर

नजर हटा ली किसी और खबर को देख कर ।


मगर मैं ठिठक कर रह गया

मैं सोचने लगा ,वह सिर्फ औरत नहीं थी

मां थी एक छोटे से बच्चे की

जो हाथ पकड़ कर उसका

समझता था खुद को शहंशाह

जिस के रोने से मचल जाती थी

सारी कायनात उस मां की

वह सिर्फ एक औरत नहीं थी।


वो किसी के सपनों की परी थी

थका हारा वह जब लौटता

तो उसकी राह तकती थी

उसका सारा संसार थी वह

अब वह नहीं तो कुछ भी नहीं

वो सिर्फ एक औरत नहीं थी ।


बेटी थी किसी की जिसको

भरे गले से किया था विदा

बरसों खिलाकर गोद में अपनी

ताजा हैं किलकारियां मन में अभी तक

वो सिर्फ एक औरत नहीं थी।


कहां है अखबार में यह सब

कि उजड़ी कितनों की दुनिया

कितने वजूद हो गए फना

कितने लोगों से बंधी थी डोर उसकी

वो सिर्फ एक औरत नहीं थी।


वो सिर्फ एक औरत नहीं थी।।



No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts