शोख घटाएं's image
Share0 Bookmarks 84 Reads0 Likes

वो बदली शिखर चूमने को आमादा है।

लगता है हवा में रूमानियत कुछ ज्यादा है।।


घटाओं ने ढक लिया है सूरज को पूरी तरह।

न जाने इन कृष्णाओं का क्या इरादा है।


आबरू अपनी बचाने को इनसे पहाड़ भी।

पहने हुए भारी भरकम बर्फ का लबादा है।


इधर ठंड से थर थराते पेड़ों का सूरज से।

जल्दी से निकल कर आने का तगादा है।।


No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts