केदारनाथ त्रासदी पर गंगा मां का प्रलाप's image
Poetry1 min read

केदारनाथ त्रासदी पर गंगा मां का प्रलाप

Nand Kishore kashmiraNand Kishore kashmira February 1, 2022
Share0 Bookmarks 59 Reads0 Likes

मैं कब तक चुप रहती ।

कब तक मैं तुम को सहती।।

विष ज्वाल लिए अंतर्मन में

शीतल सरिता बन कब तक बहती।

मां कहकर तुमने मुझसे

भोग्या सा व्यवहार किया।

इतने बंधन डाले मुझ पर

एक शूल हृदय के पार किया।

जननी को सीमाओं में बांधा

तटबंधों पर की पहरेदारी।

यत्र तत्र अवरोध खड़े कर

लहरों से मांगी हिस्सेदारी।

बह निकले अब वही अश्रु

पीड़ा का सैलाब उमड़कर।

मैं रोक नहीं पाई उसको

बदली जो बरसी घुमड़ घुमड़ कर।

व्यथित बहुत हूं मैं भी लेकिन

ये मेरा प्रतिशोध नहीं है।

असह्य वेदना बन गई आपदा

संतति से अपनी क्रोध नहीं है।






No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts