साधना's image
Share0 Bookmarks 111 Reads0 Likes

हे साधना कहां से आरंभ हो

ललाट के तेज को आत्मसात करूं

या फिर भूमि के स्पर्श को

ललित सौंदर्य के समक्ष साष्टांगत

भूमि के वंदन को सर्प की भांति

नवीन शाखा के समान आलिंगन

अतार्थ पूर्ण दासत्व हो

ये अर्चना का आत्मीय स्वरूप

और कला का बाह्य विस्तार है

ये पूर्णता की ओर एक मात्र

अतिआनंदित सुनम्य मार्ग

एंद्रिक वंदना का आधार है

उपमेय उपमा के माया में मस्त

परस्पर ज्योति एवम् ताप का संगम

यही प्रकृति के अस्त्तिव का साधन है

कोटि कोटि विच्छेद का पुनः योग

ओर मृत्यु के समान ही सच्ची

आकाश की ओर गमन करती है

एक एक भाव का पुनर्सृजन

एवम् आत्मा का एकीकरण

विचलित अग्नि को सागर में शांत करती है


Mukku




No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts