।। सुविचार ।। #मुक्तामणियाँ 28's image
MotivationalStory1 min read

।। सुविचार ।। #मुक्तामणियाँ 28

Mukta Sharma TripathiMukta Sharma Tripathi January 18, 2022
Share0 Bookmarks 39 Reads1 Likes
भ्रम का कुटिल जाल मुसाफ़िर से ठिठोली करते हुए कहता है कि अदृश्य मंजिल की चिंता में देखना कहीं किनारे के चटक रंगों से सजे फूल, पंछियों की उड़ती डार, खिलखिलाती मुस्कान का क्षणिक आनंद लेना मत भूल जाना!
देखा भटक गये ना?
तो भ्रम जाल से बाहर निकल संभलो, उठो और चलो, मंजिल तुम्हें अभी भी पुकार रही है।


✍मुक्ता शर्मा त्रिपाठी 
हिन्दी अध्यापिका 
श इं ज सिं स मि स्कूल कोटला शर्फ़ बटाला गुरदासपुर 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts