ग़ुस्ताख़'s image
Share0 Bookmarks 26 Reads0 Likes

ना जाने मेरा दिल,

इतना ग़ुस्ताख़ क्यों है,

कि उससे मोहब्बत करते-करते,

उस मोहब्बत से

मोहब्बत कर बैठा॥

….मुकेश….

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts