हादसे मेरे शहर में's image
1 min read

हादसे मेरे शहर में

Mukesh BissaMukesh Bissa June 16, 2020
Share0 Bookmarks 43 Reads0 Likes

अकेला हूँ ज़िन्दगी के सफर में

कितने सपने हैं मेरी नजर में।


आते है सलामती पाने को

कुछ हादसे हैं उनकी ख़बर में ।


सोया है तन्हा सागर अभी

देखो हैं राज़ इसकी लहर में ।


 किसी से दुनिया ने की वफा

क्यों है लोग इसके असर में ।


यकीन के लायक नही कोई

शक सा हैं हर नजर में।


 ख़फा-ख़फा है लोग यहां

 क्या हादसे हैं मेरे शहर में ।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts