तेरा ही सहारा's image
1 min read

तेरा ही सहारा

Mridul ChandelMridul Chandel June 16, 2020
Share0 Bookmarks 47 Reads0 Likes

जिंदगी वैसे ही खफा चल रही थी,

अब एक नया कहर उसने ढाया है,


आमदनी का ठिकाना तो पहले ही न था,

अब भूख से मरने का वक़्त आया है,


बदहवास निकल पड़ा हूँ घर से,

अब ठौर न ही कोई ठिकाना है,


सूख गया है रक्त चलते-चलते,

अब ईश्वर बस तेरा ही सहारा है।


- मृदुल

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts