ख़्वाहिशे कभी पूरी नही होती !'s image
Poetry1 min read

ख़्वाहिशे कभी पूरी नही होती !

Prabhat mishraPrabhat mishra November 30, 2022
Share0 Bookmarks 17 Reads0 Likes

ख़्वाहिशे कभी पूरी नही होती कुछ को अधूरी ही रहने दो ।

"तुम आओ मेरे साथ चलो जमाने को दूर ही, रहने दो ।।

Mprabhat81@

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts