यह माना के....'s image
Share0 Bookmarks 68 Reads0 Likes
यह माना के हमारे रास्ते अलग हैं,
किस्मत बदलने के, 
इरादे अलग है,
दरिया को पार करने के,
किनारे अलग है
मंजिल सबकी तो एक है,
यह आसमां छू लें हम
उस आसमान को 
छू लेने के सबके
मन के धागे अलग है।
लहरों की कोशिश है 
हमें रोक देने की 
हमारी चाहत है, 
पूरी ताकत को,
झोंक देने की
किनारे तो इक दिन लगेंगे हम 
बस वक्त के मुसाफिरों की कोशिश है
हमें रोक देने की।
समंदर की लहरें हों
या जिंदगी की मुश्किलें
सबको एक दिन,
सबक सिखाना है,
यह गुस्सा नहीं है,
नाराजगी नहीं है
बस खुल कर मुस्कुराने की,
इसे जिंदगी में वजह बनाना है,
क्या लेकर आए थे, 
क्या लेकर जाना है,
यह जान चुके हैं हम
बस जीते जी,
कुछ बेहतर, बेमिशाल बनाना है।
यह माना के रास्ते अलग हैं
किस्मत बदलने के,
इरादे अलग है,
दरिया को पार करने के,
किनारे अलग है
चलो फिर उठ खड़े होते है,
क्योंकि अब हारे हुए के,
इरादे अलग है।

{ M.M.kashyap }

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts