कोरोना या कर्मा!'s image
1 min read

कोरोना या कर्मा!

mini POETRYmini POETRY June 16, 2020
Share0 Bookmarks 100 Reads0 Likes


चारों ओर कोहराम मचा

सारी दुनिया घबराई है

स्वर्ग सी अपनी धरती पर

ये कैसी आफ़त आयी है,,

जबसे मैंने जन्म लिया

न देखा ऐसा मंज़र है

धरती के सीने में घुसता 

कोरोना रूपी खंज़र है,,

सूने हो गए गली मोहल्ले

बन्द हो गए रास्ते

घर में रुकना है अब तुमको

बस जीने के वास्ते,,

अभी समय है रोक लो खुद को

घर में ही सुरक्षित रह पाओगे

अभी नहीं संभले तो सुन लो

आगे बहुत पछताओगे

प्रकृति की गोद में पलकर

उसी को छलनी करते हैं

ज़ुर्म करते बेज़ुबानों पर

और ख़ुद की प्रसंशा करते हैं

कोरोना नहीं ये कर्मा है

तेरी हसरत गुम हो जाएगी

जब-जब बढ़ेगा ज़ुर्म तेरा

कुदरत कहर बरसाएगी

बात पते की बता रही है

सबक सिखा रही कोरोना

घायल करदे जो धरती को

तुम ऐसा काम करोना,,

तुम ऐसा काम करोना,,


https://youtu.be/0Tu4k5lptlo


No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts