ज़ख्म's image

जो कभी अपने थे पराये बन जाते हैं,

उनके ही पैरों तले अरमान कुचल जाते है,

उन्हीं के तीर से दिल तार -तार होता है,

उन्हीं के ज़ख्म से दर्द सौ बार होता है#

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts