राम वनवास's image
Share0 Bookmarks 219 Reads0 Likes

राम हुए वन गमन,

निभाने बाप का वचन

आगे-आगे राम चले

पीछे से भइया लषन

निभाने बाप का वचन

चाल चली मंथरा

कैकेयी गयी कोपभवन

मनाने गये दशरथ जी

हार गये अपना वचन

राम -राम कहते दशरथ जी

छोड़ दिये प्राण धरती पर,

निढाल हुआ उनका वदन

चौदह साल। तपस्वी बनकर

राम काटे वनवास,

कितने भक्तों का कर दिये उद्धार

राम हुए वनमन निभाने बाप का वचन







No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts