प्रेम's image

*प्रेम*

सजना मुझे छोड़ अकेले,

गया किस ओर -कि तेरे ,

तेरे बिना जी ना लगे,

रात को मुझे नींद ना आए,

रात को छत पर सोऊ ,

तारे गिन-गिन कर रोऊ,

चंदा से पूछूं बार-बार

सजना है किस पार,

कि मेरा जी ना लगे

तेरी छुवन चभ -चुभ जाए

कि तेरे बिना जी ना लगे।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts