गजल's image
Share0 Bookmarks 127 Reads0 Likes

तूं चल चाहे जितना मगरूर होकर,

इसका हम पर नहीं होगा कोई असर,

एक दिनखुद ब खुद टूट कर जायेगा बिखर,

मेरे सब्र का तुमको नहीं है खबर।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts