भिखारी's image

*भिखारी*

एक सिपाही बोला,

उठ जाओ अब यहां से ,,

नीयत ना हो खराब,

बोला भिखारी हंस कर,

सुनो मेरे भाई, मैंने एडवांस देकर ,

इस जगह की बुकिंग कराई,

मंदिर यहां पर है भीड़ भरा बाजार,

इसके लिए तो मैंने दिए हैं,

पूरे पचास हजार,

वैसे भी मै पढा लिखा एडवांस भिखारी,

ट्रैनिंग और एजूकेशन के बिना,

भीख नहीं मिलता,

सच्ची अदाकारी के बग़ैर,

चूल्हा नहीं जलता,

भीख मांगना भी आज

एक अच्छा रोजगार है,

जिसमें लागत कुछ नहीं,

मुनाफा अपार है,

इसके लिए तो अब घूस ,

और सोर्स की जरूरत,

वरना कोई जगह नहीं,

करने की मुहूरत।।।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts