सरे आईना छुपा रहा कोई's image
Love PoetryPoetry1 min read

सरे आईना छुपा रहा कोई

मारूफ आलममारूफ आलम October 18, 2021
Share1 Bookmarks 11 Reads1 Likes

सरे आईना जुदा रहा कोई

पसे आईना छुपा रहा कोई


अपने अकल ऐ तसब्बुर मे

सारी उमर खुदा रहा कोई


जहन से मिट गया मेरे मगर

दिल पे कही गुदा रहा कोई


हमें अपना तो पता है,बाकी

पता नही कुजा रहा कोई


दौरे जहल मे हुक्मे खुदा से

बेजुबानों की सदा रहा कोई


जीने का अंदाज रहा कोई

मरने की अदा रहा कोई

मारूफ आलम

शब्द अर्थ

सरे आईना- आईने के सामने

पसे आईना- आईने के पीछे

कुजा- कहाँ












No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts