बहुत खलता है जब छोड़ना पड़ता है's image
Poetry2 min read

बहुत खलता है जब छोड़ना पड़ता है

मारूफ आलममारूफ आलम November 13, 2021
Share0 Bookmarks 9 Reads0 Likes

बहुत खलता है जब छोडना पड़ता है

अपना घर अपना आंगन 

भले ही हो वो शहर मे,या गांव मे

धूप मे या घने जंगल की छांव मे

पक्का पलस्तर चढ़ा हुआ

या फिर कच्चा,टांटर से जड़ा हुआ

गौबर मिट्टी से मढ़ा हुआ

बहुत खलता है जब छोड़ना पड़ता है

अपना घर अपना आंगन

तब और भी ज्यादा खलता है ऐ दोस्त

कि जब तुम्हे कोई जबरदस्ती निकाले

तुम्हारे निवासों से

और ये बताऐ भी ना क्यों निकाले गए तुम 

अपने वासों से

बस जारी करके फरमान ये कहा जाऐ 

छोड़ दो ये जंगल,और निकल जाओ

कट जाओ जड़ों से अपनी,जमाने के साथ बदल जाओ

बहुत खलता है जब छोड़ना पड़ता है

अपना घर अपना आंगन

भला कैसे कोई अपनी जड़ों से कट जाये

क्यों छोड़ दे ये जंगल,जो मूल निवास हैं हमारे

आदिवासी हैं हम यही वास हैं हमारे

यही जंगल रोटी हैं यही जंगल पानी हैं

यही जीने की आस हैं हमारे

उन्होंने खैरात मे नही दिया है ये सब 

हमारे बुजुर्गों ने बनाया है मेहनत से

लगन से प्यार से 

ये घर ये आंगन,अब छोड़ नही सकते हम

और क्यों छोड़ें क्या वो छोड़ सकते हैं

अपनी बस्ती अपना समाज

अपनी रस्में अपने रिवाज, नही ना

तो हम क्यों दें अपना त्याग अपना बलिदान

बहुत खलता है जब छोड़ना पड़ता है

अपना घर अपना आंगन

मारूफ आलम



No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts